Monday, August 4, 2014

Kabir

धीरे-धीरे रे मना, धीरे सब कुछ होय । 
माली सींचे सौ घड़ा, ॠतु आए फल होय ॥

मन का अभ्यास धीरे धीरे ही संभव है, धीरे धीरे का अर्थ पूरे जीवन से है. नियमित अभ्यास ही हमारा स्वभाव बन जानना चाहिए.