Tuesday, August 26, 2014

Five senses

पांच ज्ञानेन्द्रियाँ (आँख, कान, नाक , जीभ, त्वचा) संचार माध्यम का सबसे बड़ी श्रोत हैं. साधकों से निवेदन है कि इसका कुशलता से प्रयोग करें. 
Yogi Anoop yoga guru in delhi