Thursday, July 4, 2013

Taste of Tongue

साधक को दो इन्द्रियों पर अधिक अभ्यास करना चाहिए वो है जिह्वा अर्थात स्वाद और आँख अर्थात देखना.
.......
 यदि भोजन करते समय स्वाद न लिया जाय तो पाचन और निष्कासन कभी भी ठीक नहीं हो सकता है.