Monday, July 1, 2013

Spiritual practice

कितनी भी साधना कर ली जाय परिवर्तनशील मन, अपरिवर्तनशील कभी भी नहीं हो सकता . इसी की अनुभूति ही तो साधना है