Thursday, March 5, 2009

Marriage in टॉयलेट (मैरिज़ इन टॉयलेट)


लोग टॉयलेट में सिगरेट, पेपर पढ़ते हैं , गुन्गुनातें हैं पर मुझे उस समय चिंतन करना अच्छा लगता हैविचारोंके साथ खेलने में, उनको पकड़ने में , तथा uनको मारने में आनंद आता हैये सब करने में भूल ही जाता हूँ की मै यंहा आया किस लिए थाकभी कभी तो टॉयलेट में घंटों बिता देता हूँ और मुझे समय का पता ही नही चलता
पेशाब करने में सामान्य लोग लगभग एक से दो मिनट लगाते हैं लेकिन मैं तो लगभग पाँच से दस मिनट लगाता हूँमेरे मित्र तो कहतें हैं कि इसने तो रावन को भी मात दे दिया। वैसे रावन पेशाब करने में सबसे अधिक समय लगाता था
योग के अनुसार तो ऐसा करने वाले की किडनी बहुत मजबूत होती है या फ़िर बहुत कमजोर होती है। मेरी क्या है ये मुझे मालूम नही।
घर में पिता जी माँ से चिल्लाते हुए कहते थे - लगता है की पूर्व जन्म में, यह टॉयलेट में ही पैदा हुआ था क्या ? सूरज निकल आया है ... अरे दितोक्सिफिकेशन की हद होती .... यह कहते हुए ऑफिस की ओर निकल जाते थे

इसके बाद मेरी मां की बारी आती थी- अरे बर्थडे करके निकलोगे क्या ? चिंता कर तेरी शादी भी मै उसी में करवा के मानूंगी । वन्ही अपनी बीबी के साथ सब कुछ करना .....बडबडाते हुए टॉयलेट के दरवाजे की ओर दौड़ती थी
डर के मारा मै किसी तरह आधा काम बींच में
ही छोड़ कर आता था

और अब शादी के बाद बीबी मेरे चिंतन से परेशान है .....वो तो कहती है , क्या वन्ही पर शीर्शाशन लगा लिया क्या
मेरे यह कहने पर कि मै चिंतन कर रहा हूँ .....
"जितने भी पागल और सनकी हुए हैं वे टॉयलेट में ही चिंतन करतें हैं । "
सत्य तो यह है की मै हर एक पल का उपयोग करता हूँमेरा अनुभव है जब प्रयोग नही होगा तो कोई खोज नही होसकतीप्रयोग के लिए कोई स्थान और कोई समय होता है